Breaking

Monday, October 7, 2019

Top 10 website Ranking Factors,Seo guide 2019

Top 10 website Ranking Factors,Seo guide (2019)

अगर आप भी ब्लॉगिंग करना चाहते हैं, या ब्लॉगिंग कर रहे हे तो आपके लिए यह जरूरी होगा कि अपनी वेबसाइट का SEO अच्छे से हो,  2018 और 2019 की अगर बात करें तो बहुत ज्यादा अंतर है, 2019 में अच्छी तरीके से अपने ब्लॉग का SEO करना होगा।  इस पोस्ट के माध्यम से मैं आपको बताऊंगा 2019 के लिए SEO  कैसे करें।Top 10 website Ranking Factors की पूरी जानकारी हिंदी में -

Top 10 website Ranking Factors,Seo guide 2019

गूगल के द्वारा प्रत्येक वर्ष 150 से ज्यादा रैंकिंग फैक्टर काम में लिए जाते हैं।  गूगल अपने एल्गोरिथ्म को हर बार अपडेट करता रहता है।  वेब मास्टर को अपनी साइट पर टॉप रैंकिंग के लिए गूगल रैंकिंग फैक्टर के अनुसार कंटेंट को ऑप्टिमाइज करता है। 


Top 10 website Ranking Factors,Seo guide 2019

1. Search intent of users

यूजर्स द्वारा जब गूगल में कुछ भी सर्च करना होता है तो उसका इरादा केवल एक ही होता है कि अच्छी से अच्छी जानकारी और सटीक से सटीक जानकारी मिले।  और गूगल भी यही चाहता है कि अपने उपयोगकर्ता को अच्छी जानकारी मिले। 

 इसलिए गूगल 2019 में यही करने वाला है, जिस वेबसाइट का कंटेंट सर्च से रिलेटेड है, वही गूगल में रैंक करेगा। 

2. Keywords Content

2019 के रैंकिंग फैक्टर में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण कंटेंट कीवर्ड होगा, क्योंकि गूगल यह देखता है कि आपके द्वारा लिखा गया कीवर्ड और यूजर्स के द्वारा सर्च किया गया कीवर्ड मिलान करता है या नहीं करता। 

 और इसके अलावा आपके द्वारा कंटेंट में उपयोग की गई इमेज, हेडिंग, हाईलाइट कीवर्ड, यह सभी महत्वपूर्ण होंगे। जो ब्लॉगर एक ही कीवर्ड का बार-बार उपयोग करेगा उसकी  पोस्ट कभी भी रैंक नहीं करेगी।  

3.Click Through Rate (CTR)

CTR  गूगल के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण सिग्नल है।  यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि CTR सर्च रैंकिंग के लिए अद्भुत रोल अदा करेगा।  जिस ब्लॉगर की CTR अच्छी है, उसकी रैंकिंग गूगल में बहुत ही अच्छी होगी। 

आप  अपने  search console की performance report में CTR देख सकते है। 

4. Information with explanation

आज के समय में गूगल क्वालिटी कंटेंट पर ज्यादा ध्यान दे रहा है।  गूगल अब उन कंटेंट पोस्ट पर ध्यान दे रहा है जो ज्यादा कीवर्ड की बजाय यूजर्स के द्वारा सर्च की गई
query से मिलान होता है। 

इसलिए आपको अपने ब्लॉग में अच्छे कीवर्ड की बजाय व्याख्या सहित पोस्ट लिखने की आवशयकता है। 

आज के समय में गूगल ये नहीं देखता की, आपका पोस्ट किस कीवर्ड से रिलेटेड है, बल्की ये देखता है की यूजर्स को किस कीवर्ड की जरूरत है। इसलिए आप पोस्ट को यूजर्स के अनुकूल बनाए न की कीवर्ड के अनुकूल।  
5. Grammar Mistake

कोई भी उपयोगकरता किसी भी पोस्ट में ग्रामर की मिस्टेक को स्वीकार नहीं करता है, और गूगल भी यह चीजें जानता है कि, अगर किसी भी पोस्ट में grammar  मिस्टेक हैं, तो उस कंटेंट को कभी भी रैंक नहीं होने देता। 

 इसलिए आप ऐसा पोस्ट लिखें जिसमें मीनिंग का अर्थ आसानी से समझ में आए और बिल्कुल सही अर्थ निकले।  कहने का मतलब आप अपनी पोस्ट को पब्लिश करने से पहले यह जांच लें, कि आपके द्वारा लिखा गया कंटेंट की grammar सही है। 

6. Are the content unique?

गूगल ऐसे ब्लॉग या वेबसाइट को कभी भी रैंक नहीं होने देता, जिसमें लिखे गए कंटेंट कॉपी किए गए हो या डुप्लीकेट कंटेंट हो।  गूगल पहले से ही ऐसी साइट को पैनेलाइज कर रहा है, और अब इस पर गहराई से एक्शन लिया जाएगा। 


 अतः आपके द्वारा लिखा गया कंटेंट बिल्कुल यूनिक होना जरूरी है।  आप जब भी कोई कंटेंट लिखें, तो यह सुनिश्चित करें कि यह लिखा गया कंटेंट कॉपीराइट नहीं है। 

7. Your page speed

यूजर एक्सपीरियंस की बात की जाए तो साइट पर लोडिंग स्पीड रैंकिंग पेज के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात है।  साइट पेज की स्पीड मोबाइल के लिए अच्छी है, वह रैंकिंग में प्रथम स्थान पर रहेगी। 


 आने वाले समय में साइट पेज की स्पीड ही रैंकिंग फैक्टर होगा।  जिस पेज की लोडिंग स्पीड ज्यादा होगी वही टॉप रैंक में अपना स्थान ग्रहण करेगा।

8.  HTTPS site(Security of your site)
उपयोगकर्ता की सिक्योरिटी करना गूगल की सबसे बड़ी पॉलिसी है।  इसलिए गूगल ने 2014 में HTTPS सिग्नल बनाया। गूगल क्रोम ब्राउजर अभी HTTP  को इनसिक्योर वार्निंग दिखाता है। 


 2019 के लिए रैंकिंग फैक्टर में यह भी एक महत्वपूर्ण पहलू है, अगर आपकी वेबसाइट HTTPS के साथ लोड होती है, तो यह आपको और आपके उपयोगकर्ता को सिक्योरिटी प्रदान करता है। 

9. Bounce Rate

अगर आपकी वेबसाइट और आपकी पोस्ट कीबाउंस रेट ज्यादा है तो यह आपकी रैंकिंग को डाउन करेगा।  इसलिए आपकी वेबसाइट की बाउंस रेट कम होना जरूरी है।बाउंस रेट कम तभी होगा जब आपका कंटेंट, यूजर्स द्वारा ज्यादा समय तक पढ़ा हो।  यूजर्स आपके पेज पर जितने ज्यादा समय तक बना रहेगा उतनी ही आपकी बाउंस रेट कम होगी, ऐसा तभी संभव है जब आपका कंटेंट अच्छी क्वालिटी का हो और यूजर्स के द्वारा अच्छी तरीके से समझा जा सके। 

10. Post summary
आपके पोस्ट की Summary, एक ऐसा फैक्टर है जिस पर वेब मास्टर के द्वारा कार्य करने की जरूरत है।  इसलिए आप जो भी पोस्ट लिखे, उस पोस्ट की Summary जरूर लिखें।  अगर आप इसे इग्नोर करते हो तो 2019 में आपकी पोस्ट को रैंक कराना मुश्किल होगा। 

 अगर आपको ब्लॉगिंग से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या होती है तो आप कमेंट में लिखकर बता सकते हैं।  संभव हो सके तो मैं आपकी हेल्प जरूर करूंगा और यह आर्टिकल आपको अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। 

No comments:

Post a Comment