Breaking

Tuesday, September 10, 2019

कंप्यूटर क्या है ? (what is computer )

कंप्यूटर क्या है ? (what is computer )

कंप्यूटर क्या है ?

कंप्यूटर एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण होता है जो डाटा एवं सूचना का प्रबंधन करता है।  कंप्यूटर का प्रयोग डॉक्यूमेंट को टाइप करने( एमएस वर्ड),गणितीय गणना करने, एवं सरलीकरण करने (ms-excel), प्रोजेक्शन बनाने (ms-powerpoint) डेटाबेस को बनाने या डाटा प्रबंध करने (एमएस एक्सेस), गेम्स खेलने, म्यूजिक सुनने, वीडियो देखने इत्यादि में होता है। 

कंप्यूटर हमारे दैनिक जीवन में बहुत महत्व रखता है।  जैसे एटीएम से पैसे निकलवाने, डेबिट मशीन की सहायता से मोबाइल इत्यादि का भुगतान करने, एक बैंक से दूसरे बैंक में रुपए का हस्तांतरण ऑनलाइन कराने इत्यादि में प्रति दिन हम कंप्यूटर का प्रयोग करते हैं। 

कंप्यूटर के मुख्य 2 भाग होते हैं 

1 सॉप्टवेयर 
2 हार्डवेयर 

सॉफ्टवेयर: सॉफ्टवेयर सूचनाओं का संग्रहण होता है जो हार्डवेयर को बताता है कि क्या करना है एवं कैसे करना है? एमएस वर्ड एमएस एक्सेल इत्यादि सॉफ्टवेयर हैं। 

 हार्डवेयर :हार्डवेयर कोई भी मशीनरी पार्ट्स जिसे हम देख एवं छू सकते हैं हार्डवेयर कलाते हैं।  जैसे कि- कीबोर्ड, माउस, मॉनिटर इत्यादि। 

पहला कंप्यूटर ENAIC सन 1946 में बनाया गया था . इसका साइज 18 फीट * 80 फीट था।  एवं इसका वजन 30 टन था। 

 कंप्यूटर की प्रोसेसिंग मानव शरीर की तरह होती है।  इसे तथ्य को हमने उदाहरण द्वारा आसानी से समझ सकते हैं-

 यदि कोई आपसे आपका नाम पूछता है? तो उत्तर में आप उसको अपना नाम बताते हैं।  क्या आपने सोचा है कि इस उत्तर को बताने में आपके शरीर में क्या प्रोसेसिंग की है। 

 निम्न बिंदु को ध्यान से पढ़िए-
1 सबसे पहले आपने अपने कानों में सुना। 
2 आपके मस्तिष्क में इन प्रश्नों का उत्तर पहले से ही विद्यमान है। 
3  आप अपना नाम प्रश्न के उत्तर के रूप में मुँह से देते हैं।  

अर्थात पहले प्रश्न आपके कानों के द्वारा मस्तिष्क को प्रेषित होती है यह स्टेप इनपुट हैं।  प्रश्न का उत्तर आपके मस्तिष्क में पहले से ही स्टोर हैं यह प्रोसेसिंग है।  अंत में प्रश्न का उत्तर आप अपने मुंह के द्वारा देते हैं यह आउटपुट हैं। 

 इसी प्रकार कंप्यूटर में तीन यूनिट्स होती हैं। 
1  इनपुट
2  प्रोसेस 
3 आउटपुट

जिस तरह से मानव शरीर में एक से अधिक इनपुट जैसे- कान सुनने के लिए, नाक सूंघने के लिए एवं आंखें देखने के लिए होती है जो सभी सूचनाओं को हमारे मस्तिष्क तक पहुंचाने का कार्य करते हैं।  इसी प्रकार कंप्यूटर में भी बहुत से इनपुट-आउटपुट डिवाइसेज होते हैं जिनके बारे में जानकारी आगे दी जा रही है-

इनपुट:

सूचनाओं एवं डाटा को कंप्यूटर में जिन डिवाइसेज के द्वारा एंटर कराया जाता है वह इनपुट डिवाइसेज के लाते हैं। 

 इनपुट डिवाइसेज

 इनपुट डिवाइसेज वे हार्डवेयर्स होते हैं जिनकी सहायता से डाटा एवं सूचनाएं कंप्यूटर को भेजी जाती है बिना इनपुट डिवाइसेज के कंप्यूटर की प्रोसेसिंग होना संभव नहीं है।  मुख्य इनपुट डिवाइसेज निम्न है। 

 -कीबोर्ड 
-बारकोड रीडर 
-डिजिटल कैमरा 
-गेमपैड 
-जॉयस्टिक 
-माइक्रोफोन 
-एमडीआई कीबोर्ड
- माउस 
-रिमोट 
-वेबकैम
- एमआईसीआर

की-बोर्ड:
कंप्यूटर क्या है ?


कीबोर्ड कंप्यूटर का मुख्य इनपुट डिवाइस होता है कीबोर्ड इलेक्ट्रॉनिक्स टाइपराइटर की तरह होता है। 

बारकोड रीडर :
बारकोड रीडर
यह पॉइंट ऑफ सेल स्केनर के नाम से भी जाना जाता है।  यह बारकोड लाइंस को पढ़कर किसी भी प्रोडक्ट की रेट एवं भजन पढ़ने में सक्षम होता है।  सुपर मार्केट जैसे रिलायंस फ्रेश, मोर, नेशनल हैंडलूम इत्यादि स्थानों पर इसका प्रयोग किया जाता है। 

डिजिटल कैमरा:
डिजिटल कैमरा

यह एक ऐसा कैमरा होता है जिसमें रेल रोल के स्थान पर कार्ड होता है जहां कि शूट की गई इमेजेस इलेक्ट्रॉनिक कार्ड रीडर पर से हो जाती है यह प्रयोग में आसान होता है, एवं इसे डाटा केबल की सहायता से कंप्यूटर से आसानी से जुड़ा जा सकता है। 

गेमपैड:
गेमपैड

विभिन्न प्रकार के गेम्स को खेलने हेतु, इस पर कहीं बटन होते हैं जिनकी सहायता से ज्ञान उसको खेला जाता है। 


जॉयस्टिक:
जॉयस्टिक
गेम्स को खेलने हेतु, प्रयोग में लिया जाता है। 

माइक्रोफोन:
माइक्रोफोन
इसकी सहायता से कंप्यूटर में आवाज को रिकॉर्ड किया जा सकता है इसे इमाइल बेरलीनर ने  1877 में अविष्कार किया था। 

माउस:
माउस
यह एक  पॉइंटिंग डिवाइस होता है।  कंप्यूटर के मेनू को सिलेक्ट करने या किसी बटन पर क्लिक करने, ग्राफिक्स डिजाइन में इसका प्रयोग किया जाता है इसे सन् 1963 में डग्लस एंगेलबर्ट ने डिवेलप किया था। 

आउटपुट डिवाइसेज

वे सभी उपकरण जो आउटपुट देते हैं आउटपुट डिवाइसेज कहलाते हैं।  कुछ कॉमन आउटपुट डिवाइसेज निम्न है-- फ्लैट पैनल -मॉनिटर- प्रिंटर -प्रोजेक्टर -साउंड कार्ड
- स्पीकर्स
-वीडियो कार्ड

कंप्यूटर की पीढ़ियां:


पीडी से तात्पर्य किसी भी प्रोडक्ट के नए फीचर से होती है।  कंप्यूटर को पांच वीडियो में बांटा गया है।  प्रत्येक नई पीढ़ी के कंप्यूटर पुरानी पीढ़ी के कंप्यूटरों से आकार में कम एवं गति में तेज एवं रखर-खाव में इकोनामी होते हैं।  कंप्यूटर की पीढ़ियों को निम्न प्रकार से वर्गीकृत किया गया है-

प्रथम पीढ़ी

यह सन 1940 से 1956 में प्रचलित थे।  इनमें वेक्यूम ट्यूब्स सर्किट के रूप में होती थी एवं मेमोरी हेतु मैग्नेटिक ड्रम्स होते थे। UNIVAC एवं ENIAC कंप्यूटर इस पीढ़ी के हैं। UNIAC प्रथम कमर्शियल कंप्यूटर यूएस सेंसस ब्यूरो ने सन 1951 में लगाया गया था। ENIAC वजन में 30 टन, 200 किलोवाट की विद्युत पावर एवं 18000 वेक्यूम ट्यूब्स तथा हजारों इंडक्टर, कैपिसिटर  के साथ सन 1945 में बनाया गया था। 


द्वितीय पीढ़ी

यह सन 1956 से 1963 में प्रचलित थे इसमें ट्रांजिस्टर को वेक्यूम ट्यूब उसके स्थान पर लगाया गया जटिल बायनरी मशीन लैंग्वेज के स्थान पर स्पीडी में प्रोग्रामर के लिए सिंबॉलिक अर्थात असेंबली लैंग्वेज डिवेलप की गई है। 

तृतीय पीढ़ी 

यह सन 1964 से 1971 के मध्य प्रदेश थे स्पीड के कंप्यूटर का आधार इंटीग्रेटेड सर्किट था बहुत से ट्रांजिस्टर का सर्किट को एक सिलिकॉन चिप में परिवर्तित कर दिया गया जिससे कंप्यूटर की स्पीड में इजाफा हुआ।


 चतुर्थ पीढ़ी 

वर्तमान एवं आने वाले समय की इस पीढ़ी  में आधार आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस प्रगतिशील है।  वर्तमान में इस श्रेणी के डिवाइसेज में हम वॉइस रिकग्निशन का काम में ले रहे हैं।  आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कंप्यूटर सिस्टम में चेस गेम्स, कंप्यूटर का रियल टाइम में डिसीजन मेकिंग करना, प्रोग्रामिंग लैंग्वेज जिसमें मानव भाषा कंप्यूटर द्वारा समझो जाना मानव प्रजाति के सम्मान मस्तिष्क का कार्य करना इत्यादि शामिल होंगे। 

दोस्तों मेरे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी इससे आगे की जानकारी मैं अगले पेज में रहूंगा अगर कोई समस्या है तो आप मेरे को कमेंट में लिख सकते हैं।  धन्यवाद। 

No comments:

Post a Comment